Thursday, February 7, 2013

LEMON


Lemon is a plant. The fruit, juice, and peel are used to make medicine.

Lemon is used to treat scurvy, a condition caused by not having enough vitamin C. Lemon is also used for the common cold and fluH1N1 (swine) flu, ringing in theears (tinnitus), Meniere's disease, and kidney stones. It is also used to aid digestion, reduce pain and swelling (inflammation), improve the function of blood vessels, and increase urination to reduce fluid retention.
In foods, lemon is used as a food and flavoring ingredient.
How does it work?

Lemon contains antioxidants called bioflavonoids. Researchers think these bioflavonoids are responsible for the health benefits of lemon.
Report (Unsufficient):
  • Meniere's disease. There are some reports that a chemical in lemon called eriodictyol glycoside might improve hearing and decrease dizzinessnausea, and vomiting in some people with Meniere's disease.
  • Kidney stones. Not having enough citrate in the urine seems to increase the risk of developing kidney stones. There is some evidence that drinking 2 liters of lemonade throughout the day can significantly raise citrate levels in the urine. This might help to prevent kidney stones in these people.
  • Treating scurvy. Scurvy is a condition caused by a lack of vitamin C. Lemon can provide some missing vitamin C.
  • The common cold and flu.
  • Decreasing swelling.
  • Increasing urine.
  • Other conditions.
More evidence is needed to rate the effectiveness of lemon for these uses.

Safety and Side effects:
Lemon is safe in food amounts and may be safe in higher medicinal amounts. The side effects of higher amounts of lemon are not known.

Applying lemon to the skin may increase the chance of sunburn, especially in light-skinned people.

Special Precautions & Warnings:

Pregnancy and breast-feeding: Lemon is safe for pregnant and breast-feeding women when used as part of a normal diet. But it’s not known whether it’s safe to use lemon in larger medicinal amounts during pregnancy or breast-feeding. Stick to food amount

Friday, November 26, 2010

लहसुन से ब्लडप्रेशर काबू में

विदेशों में भी इस बात की पुष्टि हो गई है कि लहसुन रक्तचाप को काबू में कर सकता है।

आस्ट्रेलियाई वैज्ञानिकों के एक दल ने परंपरागत भारतीय चिकित्सा पद्धति आयुर्वेद की इस मान्यता की पुष्टि कर दी है कि उच्च रक्चाप पर काबू पाने में लहसुन का इस्तेमाल कारगर हो सकता है।

एडिलेड विश्वविद्यालय के डा. कैरेन रीड की टीम ने तीन महीने तक उच्च रक्तचाप से पीडित 50 मरीजों का अध्ययन करने के बाद यह नतीजा निकाला है। एक जर्नल में प्रकाशित अध्ययन रिपोर्ट के अनुसार पुराने लहसुन के सत्व का इस्तेमाल करने पर रोगी को उच्च रक्तचाप पर नियंत्रण रखने में मदद मिलती है।

डा. रीड ने कहा कि लहसुन का सत्व उच्च रक्तचाप पर काबू पाने वाली दवाइयों के साथ लेने पर अधिक असर दिखाता है। उन्होंने कहा कि लहसुन का इस्तेमाल उच्च रक्तचाप के रोगी के लिए एकमात्र दवा के तौर पर नहीं किया जा सकता है लेकिन अगर अन्य दवाओं के साथ इसे लिया जाए तो बेहद शानदार नतीजे देखने को मिलेंगे।

हालांकि उच्च रक्तचाप रोकने में लहसुन के उपयोगी होने के बारे में आयुर्वेद हजारों साल से कहता आ रहा है। इस तरह से डा रीड के अध्ययन से आयुर्वेद की मान्यता की ही पुष्टि की है। लेकिन डा. रीड का दावा है कि उन्होंने पुराने लहसुन के सत्व को रक्तचाप नियंत्रित करने में कारगर पाया है और यही उनके अध्ययन को अनूठा बनाता है।

इसके साथ ही डा. रीड ने कहा कि लहसुन को कच्चा-ताजा अथवा पाउडर के रूप में इस्तेमाल करने पर उसका असर एक जैसा नहीं होता है। उन्होंने कहा कि अगर आप खाना बनाते समय ताजे लहसुन का इस्तेमाल करते हैं तो उसमें रक्तचाप नियंत्रित करने वाले अवयव नष्ट हो जाते हैं।

अध्ययन से पता चला है कि पुराने लहसुन का सत्व यह काम बखूबी करता है। उच्च रक्तचाप दुनिया भर में एक अरब से अधिक लोगों को अपनी चपेट में लिये हुये है। यह अपने आप में ही एक बीमारी न होकर दिल से जुडी बीमारियों का प्रमुख कारक भी है जिसकी वजह से यह हरेक साल लाखों लोगों की मौत का सबब बनता है। इस तरह से देखा जाए तो हरेक रसोईघर में मौजूद लहसुन लाखों लोगों की जान बचाने में बेहद कारगर हो सकता है।


एड्स के इलाज की नई दवा

अमेरिका के वैज्ञानिकों ने घातक बीमारी एड्स के इलाज में प्रभावी दवा का खोज करने का दावा कर चिकित्सा जगत में नयी हलचल पैदा कर दी है।

मरीजों पर किए गए शोध में पाया गया कि नयी दवा ‘टू्रवादा’ के प्रभाव से समलिंगी एवं समलैंगिक पुरूषों में एड्स के विषाणु एचआईवी से प्रभावित होने की दर में लगभग 44 प्रतिशत की कमी हो गई। इस दवा को दो वर्षों तक निंरतर लेने पर एड्स का खतरा 70 प्रतिशत तक कम हो गया।

यूएस सेंटर फार डिसीज कंट्रोल एडं प्रिवेंन्शन के डाक्टर केविन पैंन्टन ने एक बयान में कहा कि ये परिणाम एचआईवी बचाव शोध की दिशा में आगे की ओर बढ़ा एक महत्वपूर्ण कदम है।

वैज्ञानिकों ने इस दवा ‘टू्रवादा’ को दो अन्य दवाओं टेनोफोवियर और इमीट्रिसीटाबाईन के मिश्रण से बनाया और पेरू, दक्षिण अफ्रीका, थाईलैंड और कुछ और जगहों पर ऐसे 2499 समलिंगी, समलैंगिको और लिंग परिवर्तन करवा चुके लोगों पर इसका परीक्षण किया।

इन लोगों के एड्स की चपेट में आने की पर्याप्त संभावना रहती है।

Tuesday, November 2, 2010

अब बिना सुई चुभोए ही ब्लड शुगर की जांच संभ

मधुमेह के रोगियों के लिए एक चमत्कारिक उपकरण विकसित किया गया है जिसकी मदद से उन्हें सुई चुभोए बिना ही बल्ड शुगर के स्तर का पता चल जाएगा। अमरीका के मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलौजी के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित इस तकनीक की मदद से डायबिटीज टाइप-1 और टाइप-2 दोनों के ही मरीजों को बल्डशुगर का स्तर जांचने के लिए किसी भी प्रकार की सीरिंज या सुई का इस्तेमाल करने की जरुरत नहीं पडे़गी क्योंकि इस उपकरण में लगे तार का त्वचा पर लगातार कंप्यूटर स्क्रीन पर उनका हल्का सा दबाव डालने मात्र से ही बल्ड शुगर का स्तर चमकने लगेगा। यह जानकारी लंदन से प्रकाशित डेली मेल में प्रकाशित एक रिपोर्ट में दी गई है।

डायबिटीज रोग शरीर में पेनक्रियाज द्वारा इन्सुलिन बनाना कम कर देने या फिर बंद कर देने के कारण होता है। डायबिटीज दो प्रकार की होती है डायबिटीज टाइप-1 और टाइप-2, टाइप-1 आमतौर पर बच्चों को और टाइप-2 बुजुर्गों को होती है।

फिलहाल विश्वभर में बल्ड शुगर की जांच ग्लूकोमीटर या फिर रक्त की जांच से ही की जाती है। दोनों ही प्रकार की जांच में एक महीन सी सुई चुभोकर रक्त निकाला जाता है और फिर रक्त की जांच की जाती है। इस नई तकनीक के अमल में आने से मधुमेह के रोगियों को एक बहुत बड़ी परेशानी से निजात मिल सकेगी।


Monounsaturated fats boost "good" cholesterol

The monounsaturated fats found in vegetable oils, nuts and avocados can help boost a person's "good" cholesterol levels when added to an overall diet that curbs "bad" LDL cholesterol, a study published Monday suggests.

The findings, from a study of 24 adults with moderately high cholesterol, add to evidence that monounsaturated fats may be an important ingredient in a generallyheart-healthy diet. Most famously, the traditional Mediterranean diet -- rich in monounsaturated fats from olive oil and nuts, but low in saturated fat from meat and dairy -- has been linked to a decreased risk of heart disease.

Clinical trials have also suggested that Mediterranean-style eating can cut the odds of developing diabetes and metabolic syndrome, a collection of heart disease risk factors that includes high blood pressure, abdominal obesity and low levels of "good" HDL cholesterol.

For the new study, reported in the Canadian Medical Association Journal, researchers tested the effects of adding monounsaturated fats to a high-fiber vegetarian diet that had previously been shown to curb LDL cholesterol in adults with elevated levels.

Dr. David Jenkins and colleagues at the University of Toronto and St. Michael's Hospital in Ontario, Canada, had 24 patients with high cholesterol spend one month on a standard low-saturated-fat diet prescribed for cholesterol-lowering.

Participants then spent another month on the vegetarian diet; but half were randomly assigned to replace 13 percent of their daily carbohydrates with monounsaturated fats -- in the form of sunflower oil and, if they wanted, avocados.

At the end of the month, both diet groups showed a similar reduction in LDL cholesterol, of about 20 percent. The total LDL reduction over the two months -- the standard cholesterol-cutting diet, plus the vegetarian ones -- was 35 percent in both groups, comparable to the benefits that have been seen with cholesterol-lowering statin drugs.

However, the monounsaturated-fat group also showed an average increase in HDL cholesterol of about 12 percent, whereas the comparison group showed no change overall. The former group also had a reduction in levels in C-reactive protein, a marker of inflammation in the blood vessels that has been associated with heart disease risk.

The combination of the vegetarian diet and a dose of monounsaturated fat "did exactly the thing you want" when it comes to cholesterol levels, Jenkins said in an interview.

That, he said, is good news for people with high cholesterol "who want to give diet a serious try before resorting to medication."

Jenkins acknowledged that since study participants followed a tightly controlled vegetarian diet, with the foods provided for them, people's results in the real world may vary.

However, he also said that components of the study diet should be relatively easy to follow. Jenkins suggested that people replace some of their highly refined carbohydrates -- like white bread and processed snack foods -- with monounsaturated fats from nuts, avocados and olive oil.

But the fats are not a magic bullet, and overall eating habits are key. In this study, the vegetarian diet included plenty of cholesterol-lowering soluble fiber (10 grams for every 1,000 calories) -- from sources like oatmeal and psyllium -- as well as soy milk and soy-based meat alternatives, almonds and margarines containing plant sterols, which can help lower LDL cholesterol.

Again, Jenkins said, adding some of those foods in place of refined carbohydrates and sources of saturated fat should be feasible for most people.

For its part, the traditional Mediterranean diet is not vegetarian. It is generally low in red meat and dairy, but is rich in fish, vegetables, whole grains, legumes, nuts and olive oil.

"These diets," Jenkins said, "don't have to be grim."

The study received funding from the Canadian government and the Canadian supermarket chain Loblaws. Jenkins and some of his co-researchers have served as consultants for, or received research grants from, various drug companies, nutritional supplement makers and the food industry, including Kellogg, Quaker Oats and the Almond Board of California.

Saturday, July 19, 2008

दाँतों की देखभाल कैसे करें

मनुष्य की मुस्कुराहट तभी सार्थक होती है जब उसके दाँत चमकते और स्वस्थ रहते हैं। स्वस्थ मसूड़े, स्वस्थ दाँत ही हमारी हँसी की पहचान है, परन्तु अगर इन मोतियों का ख्याल नहीं रखा, तो इनमें दाग-धब्बें पड़ सकते हैं। भोजन के समय यदि दाँतों में दर्द या चबाने में तकलीफ हो रही हो तो तुरन्त किसी डॉक्टर के पास जाएँ, इलाज कराएँ।

खाने-पीने के बाद दाँतों को अच्छी तरह से साफ कर लें। सही समय पर दाँतों को साफ नहीं किया गया तो जिन्जीवाइटिस, पीरियोडेन्टिस की समस्या आपको परेशान कर सकती है। जिन्जीवाइटिस मसूड़ों में टॉर्टर, प्लाक के कारण होते हैं। इससे मसूडे दुखदायी, लाल हो जाते हैं। इस समस्या से मसूड़े फूल जाते हैं। अगर जिन्जीवाइटिस का इलाज ठीक प्रकार से नहीं किया गया तो यह पीरियोडेन्टिस जैसी बीमारी के रूप में उभर सकती है।

पीरियोडेन्टिस में मसूड़े़ तथा दाँतों से जुड़े हुए कनेक्टिव टिश्यूस जो दाँतों को सहारा देते हैं वे नष्ट एवं खत्म हो जाते हैं। दाँत अपनी जगह पर नहीं रह पाते हैं। इन समस्याओं से निजात पाने के लिए कुछ सरल उपाय :-

दातुन - प्रतिदिन दो बार दातुन करना चाहिए। प्रात:काल तथा रात को खाने के बाद आपको दातुन करना चाहिए। इसके लिए जिस टूथब्रश का इस्तेमाल कर रहे हैं उसे तीन से चार महीने बाद बदल देना चाहिए क्योंकि कुछ समय बाद वह खराब हो जाता है तथा मसूडों में लगने लगता है।
* दाँतों को साफ करने के लिए सही तरीके अपनाना चाहिए। टूथब्रश को आप मसूडों से लगाकर 45 डिग्री के ऐंगल पर रखकर धीरे से दाँतों पर घुमाएँ।
* मंजन का प्रयोग करने पर भी अगर आप के दाँत साफ नहीं हों तो फ्लोराइड दंत मंजन का प्रयोग करें।
* हर समय खाने के बाद दाँतों को पानी से कुल्ला करके साफ रखना चाहिए। इससे दाँतों में अन्न के कण चिपके हुए नहीं रहते।
* माउथवाश का प्रयोग करना चाहिए जिससे दातों में सड़न की दुर्गन्ध पैदा ना हो तथा कीटाणु का प्रकोप दाँतों पर न हो।
* भोजन करने के बाद फ्लौस करें जिससे दाँतों की पूरी सफाई होती है। फ्लौस करने के तरीके अलग हैं। फ्लौस के पैक में रस्सी होती है जिसे दाँतों के बीच में अटकाकर साफ किया जाता है। सी रूप के आकार में फ्लौस के द्वारा दाँत पर जमी गंदगी को धीरे से हटाकर साफ करते हैं।
* जिन्जीवाइटिस की बीमारी को हल करने के लिए विटामिन सी, विटामिन डी, लौंग के तेल तथा क्रेनबेरी जूस जैसी वस्तुओं का प्रयोग कर सकते हैं
* दाँतों की सफाई के लिए खीरा,गाजर,मूली तथा सेब चबा चबा कर खाना भी लाभदायक होगा।

डाइबिटीज रोगी का आहार

आज भारत में 4.5 करोड़ व्यक्ति डायबिटीज (मधुमेह) का शिकार हैं। इसका मुख्य कारण है असंयमित खानपान, मानसिक तनाव, मोटापा, व्यायाम की कमी। इसी कारण यह रोग हमारे देश में बड़ी तेजी से बढ़ रहा है। डायबिटीज चयापचय से संबंधित बीमारी है। इसमें कार्बोहाइड्रेट और ग्लूकोज का ऑक्सीकरण पूर्ण रूप से नहीं हो पाता है।

इसका मुख्य कारण है। 'इंसुलिन की कमी'। इंसुलिन नामक हार्मोन पेनक्रियाज की इन्स्लैट ऑफ लैगरहैस द्वारा निकलता है, जो ग्लूकोज का चयापचय करता है। रक्त में ग्लूकोज की मात्रा सामान्य से ज्यादा तथा सामान्य से कम होना दोनों ही स्थितियाँ घातक सिद्ध होती हैं। इस रोग को प्रारंभिक अवस्था में आहार व्यायाम तथा दवाइयों द्वारा काबू में किया जा सकता है।

डायबिटीज में आहार की भूमिक
ऐसे रोगियों के आहार की मात्रा कैलोरी पर निर्धारित रहती है, जो कि प्रत्येक रोगी की उम्र, वजन, लिंग, ऊँचाई, दिनचर्या व्यवसाय आदि पर निश्चित की जाती है। इसके आधार पर प्रत्येक व्यक्ति की अलग-अलग आहार तालिका बनती है। हम यहाँ पर एक सामान्य डायबिटीज के रोगी की आहार तालिका दे रहे हैं। इसमें भोजन में समय एवं मात्रा पर विशेष ध्यान रखना अतिआवश्यक है।

आहार तालिक
सुबह 6 बजे : आधा चम्मच मैथीदाना पावडर+पानी। सुबह 7 बजे : 1 कप बिना शक्कर की चाय +1-2 मैरी बिस्किट। नाश्ता सुबह 8.30 बजे : 1 प्लेट उपमा या दलिया+आधी कटोरी अंकुरित अनाज+100 एमएल मलाईरहित बिना शक्कर का दूध। सुबह 10.30 बजे : 1 छोटा छिलके सहित फल केवल 50 ग्राम का या 1 कप पतली छाछ बिना शक्कर की या नींबू पानी। दोपहर का भोजन 12.30 बजे : 2 मिश्रित आटे की सादी रोटी, 1 कटोरी पसिया निकला चावल+1 कटोरी सादी दाल+1 कटोरी मलाईरहित दही+आधा कप सोयाबीन या पनीर की सब्जी +आधा कप हरी पत्तेदार भाजी+सलाद 1 प्लेट। अपराह्न 4 बजे : 1 कप बिना शक्कर की चाय+1-2 मैरी बिस्किट या 1-2 टोस्ट। शाम 6 बजे : 1 कप सूप। रात का भोजन 8.30 बजे : दोपहर के समान। रात को सोते समय 10.30 बजे : 1 कप बिना शक्कर का मलाई रहित दूध।

* जब-जब भूख सताए तो उपयोग करें : कच्ची सब्जियाँ, सलाद, काली चाय, सूप, पतली छाछ, नींबू पानी।
* इससे बचें : गुड़, शक्कर, शहद, मिठाइयाँ, मेवे।
* डायबिटीज के रोगियों के लिए सलाह : प्रतिदिन 35-40 मिनट तेज चलें।
* खाना एक साथ न खाकर थोड़ी-थोड़ी देर में थोड़ा-थोड़ा खाएँ।
* दिनभर के भोजन में तेल का इस्तेमाल 3-4 चम्मच (रिफाइंड) करें।
* भोजन आहार तालिका के अनुसार दिए हुए निर्धारित समय पर ही करें तथा निश्चित मात्रा में करें।
* भोजन में रेशेदार पदार्थों का सेवन ज्यादा करें। इससे रक्त में ग्लूकोज का स्तर धीरे-धीरे बढ़ता है और रक्त में ग्लूकोज की मात्रा नियंत्रित रहती है।
* उपवास न करें और न ही खूब दावत उड़ाएँ। इस तरह अगर आप इन बातों पर अमल करेंगे तो आप स्वयं इस रोग को नियंत्रित कर सकते हैं।

पहचानिए मुख कैंसर के लक्षण

मुख कैंसर के आरंभिक लक्षणों को मरीज नजरअंदाज करते हैं। तंबाकू का गुटखा मुँह में दबाकर रखने से कैंसर को खुला न्योता मिल जाता है। बावजूद इसके कि वे मुँह में हो रहे जख्मों की नियमित जाँचें कराएँ वे इसकी ओर ध्यान ही नहीं देते। जब मर्ज बढ़ जाता है तबतक बहुत देर हो चुकी होती है।

भारत में मुख कैंसर के मरीज पूरे विश्व में सबसे ज्यादा हैं। मुख कैंसर के करीब 90 प्रतिशत मरीज तंबाकू का सेवन करते हैं। अधिकतर लोग तंबाकूयुक्त गुटखा मुँह में या दाँतों व गाल के बीच में दबाकर रखते हैं। उन्हें यहीं पर कैंसर हो जाता है। तंबाकू के प्रयोग की अवधि व उसकी मात्रा के अनुपात में जोखिम बढ़ जाता है। इसके अलावा, शराब का अत्यधिक सेवन भी मुख कैंसर का जोखिम बढ़ाती है। टूटे हुए दाँत का चुभता हिस्सा, खराब फिटिंग्स वाले दाँत भी बार-बार रगड़कर मुख कैंसर का कारण हो सकते हैं।
मुख कैंसर के लक्षण
मुख में छाला या गठान जो लंबे समय से ठीक नहीं हो रही हो।
छाला जिसको हाथ लगाने पर खून आता हो।
मुख में खुरदुरापन लगना।
गाल पर सूजन या गठान।
मुँह खुलने में या खाना खाने में दर्द या परेशानी।
जबड़े में सूजन या गठान।
मुख से बार-बार खून आना।

मुख कैंसर को प्रारंभिक अवस्था में पकड़ने के लिए व उपरोक्त लक्षणों की जाँच के लिए, 'स्वमुख परीक्षण' हर तंबाकू का सेवन करने वाले व्यक्ति को तो अवश्य ही करना चाहिए।

स्वपरीक्षण
अपनी उँगलियों को एक-दूसरे से चिपकाकर जोड़ लें। अब मुँह खोलकर इसमें चारों उँगलियों को इस तरह घुसाने की कोशिश करें कि अंगूठे के पास की उँगली ऊपर वाले दाँतों को स्पर्श करे और नीचे दाँतों पर सबसे छोटी उँगली हो। अब देखें कि चारों उँगलियाँ अंदर जा रही हैं या नहीं। इससे यह पता लगेगा कि आप अपना मुँह खोल पा रहे हैं अथवा मुश्किल आ रही है।

Friday, May 16, 2008

प्रदूषण से ख़ून जम जाने का ख़तर

एक अमरीकी अध्ययन में पाया गया है कि प्रदूषित हवा और ट्रैफ़िक के धुएँ से जिस्म के अंदर ख़ून के जम जाने का ख़तरा बढ़ जाता है.
'हार्वर्ड स्कूल ऑफ़ पब्लिक हेल्थ' में किए गए इस अध्ययन के अनुसार जैविक ईंधन के जलने से जो धुआँ निकलता है उसमें बेहद छोटे आकार के ऐसे रासायनिक कण होते हैं. इनसे हृदय रोग का ख़तरा बढ़ जाता है.
इन कणों की वजह से खून इतना गाढ़ा हो जाता है कि हृदय गति तक रुक सकती है.
इस शोध के दौरान ये भी पता चला कि धुएँ और प्रदूषण से निकलने वाले ये ज़हरीले रासायनिक कण पैरों की धमनियों में बहने वाले खून को भी गाढ़ा कर देते हैं जिससे ‘डीप वेन थ्रॉमबॉसिस’ यानी ‘डीवीटी’ या ‘धमनियों में अवरोध’ का ख़तरा बढ़ जाता है.
वैज्ञानिकों ने इस शोध के लिए तक़रीबन 2000 लोगों को चुना था. वैज्ञानिकों ने पाया कि प्रदूषण से खून चिपचिपा और गाढ़ा हो जाता है.
गाढ़ापन
शोध में ये बात भी सामने आई कि चुने गए 2000 लोगों में से यूरोप के शहर इटली के रहने वाले 900 लोगों में धमनियों में अवरोध यानी डीवीटी की बीमारी पैदा हो गई.
वायु प्रदूषण से धमनियों के अंदर खून के थक्के जम जाने की आशंका बढ़ जाती है

इन लोगों के खून में 'ब्लड क्लॉट' या खून के थक्के देखे गए. खून के ये थक्के पैरों की धमनियों से होते हुए फेफड़ों में पहुँच कर एक बड़ा ख़तरा पैदा कर सकते हैं.
वैसे 'डीवीटी' यानी धमनियों में खून के जम जाने का ख़तरा उन लोगों को ज़्यादा होता है जो ज़्यादा देर तक एक ही जगह बैठकर काम करते हैं.
जैसे, हवाई या रेल यात्रा के दौरान ज़्यादा देर तक एक ही जगह पर बैठे रहना या फिर दफ़्तरों में एक ही जगह पर बैठकर काम करना.
इसी लिए सलाह दी जाती है कि दफ़्तरों में आप एक ही जगह पर बैठकर काम न करें बल्कि बीच-बीच में अपनी कुर्सी पर ही कुछ हल्की-फुल्की कसरत कर लें या फिर चलते फिरते काम करें.
क्या हैं आंकड़े ?
वैज्ञानिकों ने इस शोध के दौरान उन इलाक़ों के प्रदूषण के नमूने भी लिए जिन जगहों पर ये लोग रहते हैं।

किसी शख्स के खून में इन ज़हरीले रासायनिक कणों की मात्रा के हर 10 माइक्रोग्राम बढ़ने पर डीवीटी का ख़तरा 70 प्रतिशत तक बढ़ जाता है.
प्रदूषण विभाग के अनुसार भी वातावरण में इन छोटे रासायनिक कणों की मात्रा 50 माइक्रोग्राम से ज़्यादा नहीं होनी चाहिए.
इस शोध को अंजाम देने वाले डॉक्टर एंद्रिया बासारेली कहती हैं, "हमारे शोध के मुताबिक़ प्रदूषण बढ़ने से किसी भी शख्स में डीवीटी का ख़तरा बढ़ जाता है."
डीवीटी चैरिटी लाइफ़ब्लड के निदेशक डॉक्टर बेवेरली हंट कहते हैं, "पिछले कुछ दिनों से चल रहे हमारे शोध से ये बात सामने आई है कि वायु प्रदूषण से दिल की बीमारियों और हृदय गति रुक जाने का ख़तरा काफ़ी बढ़ जाता है."
"इस शोध से पहली बार पता चला है कि वायु प्रदूषण से धमनियों के अंदर खून के थक्के जम जाने की आशंका बढ़ जाती है."
वैज्ञानिक मानते हैं कि थोड़ी ही कोशिशों से वायु प्रदूषण को आसानी से काबू में किया जा सकता है.
वैसे, अमरीका में हुई इस खोज के बाद ये कहा जा सकता है कि भारत में महानगरों के अलावा कानपुर, पुणे और दूसरे शहरों में दिल के मरीज़ों की संख्या क्यों तेज़ी से बढ़ रही है.

बच्चों में बढ़ रहा है मधुमेह का रोग

अहमदाबाद। क्या आप जानते है कि तनाव के कारण मधुमेह पीड़ित बच्चों की संख्या लगातार बढ़ रही है। माता-पिता बच्चों को पढ़ाई के साथ अन्य क्षेत्रों में भी आगे बढ़ाने के लिए उन पर दबाव डालते हैं। परिणामस्वरूप बच्चे तनाव में रहते हैं और मधुमेह के शिकार होते हैं।मधुमेह विशेषज्ञ संजीव पाठक ने मंगलवार को ‘सैनोफी-एवेनटीस डिस्पोजेबल इंसुलिन पेन’ को पेश करते हुए कहा कि, “तनाव मधुमेह का मुख्य कारण है। तनाव के दौरान फास्ट फूड खाने वाले दूसरी कक्षा के छात्र भी मधुमेह के शिकार हो सकते हैं।”
वह कहते हैं कि, “बच्चों को खेलने के लिए प्रेरित करने की बात करते हुए अभिभावक उन्हें जानी-मानी टेनिस खिलाड़ी स्टेफी ग्राफ बना देना चाहते हैं। यह बच्चों में तनाव पैदा करता है जिससे वे मधुमेह से पीड़ित हो जाते हैं।”देश में तीन करोड़ से ज्यादा मधुमेह मरीज हैं। ‘सैनोफी-एवेनटीस’ पहले से भरा ‘डिस्पोजिबल इंसुलिन पेन’ है जिसे ‘सोलोस्टार’ कहते हैं। यह ‘हाइपरग्लाईसेमिया के टाइप 1’ और ‘टाइप 2’ मधुमेह के उपचार में प्रयोग किया जाता है। गुजरात में इसकी कीमत 884 रुपए हैं।
‘सैनोफी-एवेन्टीस कार्डियो-मेटाबोलिज्म’ व्यवसाय इकाई के वरिष्ठ निदेशक सुशील उमेश कहते हैं कि, “सोलोस्टार आसानी से प्रयोग किया जाने वाला इंसुलिन पेन है। यात्रा के दौरान भी मरीज आसानी से इसे अपनी जेब में ले जा सकता है। चिकित्सकों और नर्सों द्वारा इस पेन को मधुमेह मरीजों की जरूरतों को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है।”पाठक ने आगे कहा कि आनुवांशिक रूप से गुजरात में मधुमेह होने की सम्भावना ज्यादा कही जा सकती है। उन्होंने यह भी कहा कि लोगों को इंसुलिन का प्रयोग करने में शर्म महसूस नहीं होनी चाहिए। यह दवा नहीं है। शरीर की जरूरतों को यह पूरा करता है।

Wednesday, April 9, 2008

Dyslexia differs by language

WASHINGTON: Dyslexia affects different parts of children's brains depending on whether they are raised reading English or Chinese. That finding, reported in online edition of Proceedings of the National Academy of Sciences , means that therapists may need to seek different methods of assisting dyslexic children from different cultures.

"This finding was very surprising to us. We had not ever thought that dyslexics' brains are different for children who read in English and Chinese," said lead author Li-Hai Tan, a professor of linguistics and brain and cognitive sciences at the University of Hong Kong. "Our finding yields neurobiological clues to the cause of dyslexia."

Millions of children worldwide are affected by dyslexia, a language-based learning disability that can include problems in reading, spelling, writing and pronouncing words. The International Dyslexia Association says there is no consensus on the exact number because not all children are screened, but estimates range from 8% to 15% of students.

Reading an alphabetic language like English requires different skills than reading Chinese, which relies less on sound representation, instead using symbols to represent words. Past studies have suggested that the brain may use different networks of neurons in different languages, but none has suggested a difference in the structural parts of the brain involved, Tan explained.

Tan's research group studied the brains of students raised reading Chinese, using functional magnetic resonance imaging.

They then compared those findings with similar studies of the brains of students raised reading English.

Skin stem cells to treat brain disease

WASHINGTON: Skin cells re-programmed to act like embryonic stem cells eased symptoms of Parkinson's disease in rats, researchers reported on Monday in a first step toward tailored treatments for people that bypass concerns about using human embryos.

The experiments it may be possible to take a small sample of skin and turn it into a transplant perfectly matched to patients with Parkinson's and other diseases, the researchers reported in the Proceedings of the National Academy of Sciences.

It also supports the usefulness of newly created cells that resemble powerful embryonic stem cells. The stem cell experts used so-called induced pluripotent stem cells, which are skin cells reprogrammed to act like embryonic stem cells.

"It's a proof of principle experiment that argues, yes, these cells may have the therapeutic promise that people ascribe to them," said Rudolf Jaenisch, a stem cell expert at the Whitehead Institute and the Massachusetts Institute of Technology.

Researchers have been trying to find ways to harness stem cells, the body's master cells, to treat patients with serious injuries, brain diseases and organ damage caused by conditions such as diabetes.

Stem cells taken from very early embryos appear to be the most malleable and the most powerful. But many people object to their use because the embryo usually must be destroyed to extract them.

Several teams have reported a way to re-program ordinary skin cells to act like embryonic stem cells by adding several genes. Jaenisch's team tested some of these cells in rats and mice. They first got such cells to take up residence in the brains of unborn mice.

Then they damaged the brains of rats to resemble Parkinson's, which is caused by the destruction of certain brain cells that produce a message-carrying chemical called dopamine. Patients lose abilities associated with movement, and progress from a type of shakiness to paralysis and death.

There is no cure. Transplants of cells from fetuses have offered some relief from symptoms in a few people. In the rats, the cell transplants improved symptoms markedly, the researchers said.

"This is the first demonstration that re-programmed cells can integrate into the neural system or positively affect neurodegenerative disease," said MIT's Marius Wernig. One problem with transplanting these powerful but immature cells is that they can differentiate into undesired tissues.

ज्यादा टीवी देखोगे, तो बनोगे खराब

अक्सर बच्चों के एग्जाम के दौरान पैरंट्स टीवी को बंद कर देते हैं और एक स्टडी ने इसे सही भी ठहराया है। स्टडी का कहना है कि जो बच्चे बहुत ज्यादा टीवी देखते हैं, वे पढ़ाई में फिसड्डी रह जाते हैं, खासतौर पर वे बच्चे जिनके बेडरूम में टीवी होता है।

अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ मिनेसोटा के स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ द्वारा की गई स्टडी ने यहां तक कहा है कि ऐसे बच्चे सामाजिक रूप से भी पिछड़ जाते हैं और उनकी सेहत भी औरों की अपेक्षा कमजोर रहती है। दरअसल, जिन बच्चों के बेडरूम में टीवी होता है, वे न तो अपने खाने-पीने का ध्यान ढंग से रखते हैं और न ही पढ़ाई पर ध्यान देते हैं। साथ ही रिसर्च के दौरान यह भी पाया गया ऐसे बच्चे अपने पैरंट्स के साथ भी कम समय बिताते हैं।

रिसर्चरों का कहना है कि 15 से 18 साल की उम्र के करीब 781 किशोरों पर की गई रिसर्च में 62 फीसदी किशोरों के बेडरूम में टीवी नहीं था। रिसर्चरों को इसके नतीजे अपनी उम्मीद के मुताबिक ही मिले। उनका कहना है कि जिन बच्चों के बेडरूम में टीवी था, वे रोजाना औसतन 4 से 5 घंटे टीवी देखते थे। जिन लड़कियों के बेडरूम में टीवी था, वे औरों की अपेक्षा एक्सरसाइज पर कम ध्यान देती थीं। वे कम सब्जियां खाती थीं, जबकि सॉफ्ट ड्रिंक्स ज्यादा लेती थीं। अपने परिवार के साथ बैठकर खाने के मामले में भी वे कम समय देती थीं।


जिन लड़कों के बेडरूम में टीवी होता था, वे क्लास में औरों के मुकाबले पिछड़े पाए गए। खाने के मामले में भी उनका हाल काफी कुछ उन्हीं लड़कियों जैसा था जिनके बेडरूम में टीवी था। ऐसे लड़के अपने परिवार के साथ भी कम समय बिताते थे। प्रमुख रिसर्चर डेहिया बार-एंडरसन ने कहा, रिसर्च के दौरान हमें लगा कि पैरंट्स द्वारा अपने बच्चों को बहुत ज्यादा टीवी देखने पर मना करना असल में सही है। डेहिया बताते हैं कि आमतौर पर पैरंट्स जब घर में नया टीवी लाते हैं, तो पुराने को बच्चों के कमरे में रख देते हैं। ऐसा करना बच्चों के लिए बिल्कुल सही नहीं है।

एंटीबायोटिक तक पचा जाते हैं कुछ बैक्टीरिया

जंगल में शिकारी को तो शिकार बनते अक्सर देखा है लेकिन अब बैक्टीरिया जैसे छोटे जीव भी शिकारी की भूमिका में आ गए हैं। भूल जाइए एंटीबायोटिक दवाओं को क्योंकि वैज्ञानिकों ने अब कुछ सुपर रेसिस्टेंट बैक्टीरिया खोज निकाले हैं। ये ऐसे बैक्टीरिया हैं जिनपर न सिर्फ एंटीबायोटिक बेअसर साबित हो रही हैं बल्कि उल्टे बैक्टीरिया उन्हीं को खाने लगते हैं। हॉवर्ड मेडिकल स्कूल के शोधकर्ताओं ने जॉर्ज एम. चर्च की अगुवाई में ऐसे 400 बैक्टीरिया खोज निकाले हैं। ये दवाओं से ही कार्बन लेकर अपनी जरूरतें पूरी कर लेते हैं।

स्टडी के लिए वैज्ञानिकों ने 11 अलग-अलग जगहों की मिट्टी से बैक्टीरिया के नमूने लिए। इनमें मिनिसोटा के अल्फा- अल्फा और बोस्टन के शहरी इलाकों से लिए गए नमूने भी शामिल थे। शोधकर्ताओं ने इन्हें 18 नेचरल और सिंथेटिक एंटीबायोटिक दिए, इनमें पेनिसिलिन और सिप्रोफ्लॉक्सिन जैसी आम दवाएं भी शामिल थीं। नतीजों में देखा गया कि इन सभी दवाओं में बैक्टीरिया की बराबर बढ़त हुई थी।

शोधकर्ताओं के मुताबिक इन बैक्टीरिया को सुपर रेसिस्टेंट या महा प्रतिरोधक कहा जा सकता है, क्योंकि ये प्रतिरोध की सीमा से 50 गुना ज्यादा ताकतवर एंटीबायोटिक को भी बर्दाश्त कर गए। राहत की बात यही है कि इनमें से कोई भी बैक्टीरिया इंसानों में रोग पैदा करने वाला नहीं है। हालांकि कुछ बीमारी पैदा करने वाले बैक्टीरिया के नजदीकी रिश्तेदार जरूर थे। इसके अलावा अभी यह भी तसल्ली है कि फिलहाल बीमारियां फैलाने वाले किसी भी बैक्टीरिया में एंटीबायोटिक को शिकार बनाने की क्षमता नहीं है। वैज्ञानिकों के मुताबिक बैक्टीरिया को हमारे शरीर में ही पनपने के लिए काफी कुछ मिल जाता है।

इसके बावजूद इस स्टडी के नतीजे एक बड़े खतरे की ओर हमें आगाह जरूर करते हैं। एंटीबायोटिक पर पनपने वाले बैक्टीरिया की मौजूदगी बताती है कि नेचरल तौर पर इनमें इतनी प्रतिरोधक क्षमता भी होती है। चूंकि जीन्स के ट्रांसफर से यह खूबी बाकी बैक्टीरिया में आ सकती है इसलिए मुमकिन है कि इंसानों में बीमारी फैलाने वाले बैक्टीरिया मिट्टी में मौजूद अपने भाई बंधुओं से यह ताकत कभी भी पा जाएं।

Wednesday, April 2, 2008

बढ़ेगी तोंद, तो दिमाग होगा खराब

लंदन: कहते हैं न कि ज्यादातर बीमारियों का संबंध पेट से होता है। अब एक स्टडी ने साबित कर दिया है कि अगर पेट निकला हो, तो दिमागी बीमारियों का खतरा ज्यादा होता है। अभी तक की स्टडीज़ के मुताबिक ज्यादा वजन कई मामलों में खतरे की घंटी साबित होता है, लेकिन ब्रिटेन में की गई इस रिसर्च ने दावा किया है कि बेशक वजन ज्यादा न हो, लेकिन पेट बाहर निकला हुआ है, तो डिमेंशिआ जैसी दिमागी बीमारी आपको अपनी गिरफ्त में ले सकती हैं। रिसर्च का कहना है कि खासतौर पर अधेड़ उम्र के लोगों के लिए यह खतरा तीन गुना बढ़ जाता है। रिसर्च के दौरान 40 से 45 साल के 6500 से ज्यादा लोगों पर स्टडी की गई। इस दौरान बड़ी तोंद वाले लोगों में डिमेंशिआ के लक्षण ज्यादा पाए गए।